56+ life depression sad shayari | Life depression sad shayari in hindi

कभी तो खत्म हो ये सफर तन्हाई का, कोई तो मिले जो मोल समझे परछाई का।

 

अक्सर अकेलेपन में सुना है, दिल का दर्द भी बहुत चुपके चुपके से रोता है।

 

वो कभी मेरी थी ही नहीं, दिल बहलाने के लिए खेल रही थी खामोशी से।

 

जिंदगी ने दिए हैं इतने धोखे, अब भरोसा खुद पर भी नहीं होता।

 

रातें भी अब सूनसान लगती हैं, जबसे वो हमें छोड़कर चली गई।

 

कुछ दर्द ऐसे होते हैं, जो वक्त के साथ नहीं, बस साथ चलते हैं।

 

हमने भी दिल को पत्थर बना लिया, अब किसी की याद में रोया नहीं जाता।

 

खुद को खो दिया है मैंने, किसी और को पाने की चाह में।

 

आंखों से नींद भी रूठ गई, जबसे उनकी जुदाई का पता चला।

 

कुछ लम्हे ऐसे भी होते हैं, जब दिल रोता है और आंखें सूखी रहती हैं।

 

हर किसी से मोहब्बत करना आसान नहीं, खासकर जब दिल बिखरा हो।

 

किस्मत से नाराज नहीं हूं, बस अपने आप से सवाल पूछता हूं।

 

इस शहर में कोई तो होगा, जो मेरी तरह तनहा हो।

 

ख्वाबों में ही सही, पर तुझसे मिलने की तमन्ना रहती है।

 

अब मुस्कुराना भी अजीब लगता है, जबसे दर्द का आदी हो गया हूं।

Life depression sad shayari in hindi

हर किसी से मोहब्बत करना आसान नहीं, खासकर जब दिल बिखरा हो।

 

जिंदगी ने दिए हैं इतने धोखे, अब भरोसा खुद पर भी नहीं होता।

 

रातें भी अब सूनसान लगती हैं, जबसे वो हमें छोड़कर चली गई।

 

कभी तो खत्म हो ये सफर तन्हाई का, कोई तो मिले जो मोल समझे परछाई का।

 

अक्सर अकेलेपन में सुना है, दिल का दर्द भी बहुत चुपके चुपके से रोता है।

 

कुछ दर्द ऐसे होते हैं, जो वक्त के साथ नहीं, बस साथ चलते हैं।

 

हमने भी दिल को पत्थर बना लिया, अब किसी की याद में रोया नहीं जाता।

 

खुद को खो दिया है मैंने, किसी और को पाने की चाह में।

 

आंखों से नींद भी रूठ गई, जबसे उनकी जुदाई का पता चला।

 

कुछ लम्हे ऐसे भी होते हैं, जब दिल रोता है और आंखें सूखी रहती हैं।

 

अब मुस्कुराना भी अजीब लगता है, जबसे दर्द का आदी हो गया हूं।

 

इस शहर में कोई तो होगा, जो मेरी तरह तनहा हो।

 

किस्मत से नाराज नहीं हूं, बस अपने आप से सवाल पूछता हूं।

 

ख्वाबों में ही सही, पर तुझसे मिलने की तमन्ना रहती है।

 

कभी किसी ने नहीं सोचा, मेरे दर्द का कारण क्या है।

 

जिंदगी की राहों में अकेला रह गया, जहां साथ चलना था, वहां तन्हा रह गया।

 

दिल तोड़ने वालों को कभी एहसास नहीं होता, कितना दर्द होता है।

 

खुद को खुद से लड़ते देखा है, जबसे जिंदगी ने मोड़ लिया है।

 

दिल का दर्द न किसी से कह पाऊं, न किसी से छुपा पाऊं।

 

कुछ लोग कहते हैं कि समय सब कुछ ठीक कर देता है, लेकिन समय भी जब हार मान जाए, तब क्या करें?

Life depression sad shayari for girl

दिल का दर्द किसी से कह नहीं सकती, पर अपने आँसू खुद पोंछ सकती हूँ।

 

हमें छोड़ कर जो गए, उनकी यादों में हम अब भी सिसकते हैं।

 

कोई तो होगा जो मेरी तरह तन्हा हो, जो मेरे दर्द को समझ सके।

 

दिल तोड़ने वालों को कभी एहसास नहीं होता, कितना दर्द होता है।

 

हमने भी दिल को पत्थर बना लिया, अब किसी की याद में रोया नहीं जाता।

 

खुद को खो दिया है मैंने, किसी और को पाने की चाह में।

 

आंखों से नींद भी रूठ गई, जबसे उनकी जुदाई का पता चला।

 

कुछ लम्हे ऐसे भी होते हैं, जब दिल रोता है और आंखें सूखी रहती हैं।

 

अब मुस्कुराना भी अजीब लगता है, जबसे दर्द का आदी हो गया हूं।

 

इस शहर में कोई तो होगा, जो मेरी तरह तनहा हो।

 

किस्मत से नाराज नहीं हूं, बस अपने आप से सवाल पूछती हूं।

 

ख्वाबों में ही सही, पर तुझसे मिलने की तमन्ना रहती है।

 

कभी किसी ने नहीं सोचा, मेरे दर्द का कारण क्या है।

 

जिंदगी की राहों में अकेला रह गई, जहां साथ चलना था, वहां तन्हा रह गई।

 

दिल का दर्द न किसी से कह पाऊं, न किसी से छुपा पाऊं।

 

कुछ लोग कहते हैं कि समय सब कुछ ठीक कर देता है, लेकिन समय भी जब हार मान जाए, तब क्या करें?

 

रातें भी अब सूनसान लगती हैं, जबसे वो हमें छोड़कर चली गई।

 

कभी तो खत्म हो ये सफर तन्हाई का, कोई तो मिले जो मोल समझे परछाई का।

 

अक्सर अकेलेपन में सुना है, दिल का दर्द भी बहुत चुपके चुपके से रोता है।

 

दिल का दर्द किसी को दिखा नहीं सकती, सिर्फ खुद ही समझ सकती हूँ।

 

उनकी यादें अब भी दिल को रुलाती हैं, जब रात को तन्हाई गहराती है।

 

मोहब्बत की राह में इतनी तकलीफें, कैसे सहन करूँ ये अजीब एहसासें।

 

अब तो आदत सी हो गई है, हर रात रोकर सोने की।

 

दिल की दुनिया में अंधेरा छा गया, जबसे तू मुझे छोड़ गया।

 

तू जबसे दूर गया, मेरी जिंदगी में उजाला ही नहीं रहा।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top